सोमवार, 21 सितंबर 2009

कॉफी की लोकप्रियता




कॉफी दुनिया भर में किस तरह से लोकप्रिय हुई, यह कहानी बेहद दिलचस्प है। इंटरनेशनल कॉफी ऑर्गनाइजेशन केअनुसार, कॉफी की शुरुआत अरब देशों से हुई। यमन में पंद्रहवीं सदी के आसपास इसके पौधों की खेती की जाती थी। वैसे, अरब के व्यापारी किसी उर्वर बीज का व्यापार नहीं करते थे।

गौरतलब है कि कॉफी के बीन्स ही कॉफी के बीज होते हैं। जब इनके बाहरी हिस्से को उतार दिया जाता है, तो ये बीज उर्वर नहीं रह जाते। इस तरह, काफी समय तक कॉफी अरब देशों तक ही सीमित हो गई। वे डच थे, जो कॉफी को इन देशों से निकालकर हॉलैंड लाए। एशिया और भारत में भी कॉफी को लाने का श्रेय डच व्यापारियों को ही जाता है।

अरब के लोग शुरुआती समय में कॉफी के स्वाद से परिचित नहीं थे। कॉफी के प्रभाव का अंदाजा उन्हें तब हुआ, जब जानवरों ने इन पौधों को चरना शुरू किया। दरअसल, वे कॉफी के बीज खाने के बाद कुछ अजीब सी हरकतें करने लगते थे। उस समय आमतौर पर कैट नामक झाडी का प्रयोग स्टीमुलेंट के रूप में प्रयोग होता था। लेकिन जल्द ही इसका साइड इफेक्ट पता चला, जो काफी नुकसानदेह था।

जब लोगों को पता चला कि कॉफी के बीजों का भी स्टीमुलेंट की तरह प्रयोग हो सकता है, तो उन्होंने इनका सेवन करने में बिल्कुल देर नहीं की। हां, उस समय लोग इसे कॉफी नहीं, गहवा कहते थे। कहते हैं गहवा इसलिए पॉपुलर हुआ, क्योंकि इस्लाम में नशीले पदार्थो की मनाही थी और गहवा में इसकी भरपाई करने का सारा गुण था।

लगभग ग्यारहवीं सदी के आसपास कॉफी सेवन को बढावा देने के लिए कॉफी हाउसेस बनने लगे, जहां लोग कॉफी पीने के लिए इकट्ठा होते थे। जबकि ये स्थान विचारशील लोगों के विचार विनिमय और बहस मुबाहिसों के लिए लोकप्रिय होने लगे। इसका परिणाम यह हुआ कि अरब समाज में एक तरह से सकारात्मक बदलाव पैदा हुआ। और इस तरह, कॉफी की प्रतिष्ठा में खूब इजाफा हुआ।

लगभग सोलहवीं सदी के आसपास इसकी खुशबू यूरोपीय देशों में भी फैलने लगी। हालांकि हर नई चीज की तरह कॉफी सेवन को लेकर भी तरह-तरह की अफवाहें सुनी जातीं। इसे कई नामों से नवाजा गया। कुछ इसे बाइटर इनवेंशन कहते। इन विवादों से दूर 1652 के आसपास यूरोप में पहला कॉफी हाउस बना। इसे पेनी यूनिवर्सिटीज कहा गया। पेनी इसलिए क्योंकि वहां एक पेनी यानी पैसा देने के बाद ही एक कप कॉफी मिलती थी।

सत्रहवीं सदी के मध्य में कॉफी की खुशबू अमेरिकी देशों में भी फैलने लगी। चाय से ज्यादा लोग कॉफी को पसंद करने लगे। आज दक्षिण अमेरिकी देश ब्राजील कॉफी इंडस्ट्री का गढ है। कॉफी हाउसेस के बनने और कॉफी के उत्पादन और इसकी गुणवत्ता को बढाने का प्रयास जारी है। व्यापार के लिए तेल के बाद कुछ बहुमूल्य उपयोगी वस्तुओं में कॉफी का स्थान सबसे ऊपर है। दिन की शुरुआत करना हो या थकावट से निजात पाने के लिए कॉफी हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुका है।

कॉफी, एक ऐसा पेय है जिसे कभी स्टॆटस सिम्बोल की तरह पीया जाता है, कभी महज समय बिताने के लिए कॉफी शॉप में पीया जाता है या फिर बस मज़े के लिए पीया जाता है. देखा गया है कि उत्तर भारत के लोग कॉफी के प्रति उदासीन ही होते हैं. इसके विपरीत दक्षिण भारत में कॉफी एक नियमित पेय के रूप में ज्यादा प्रचलित है.

वैसे कॉफी में कोको की मात्रा उसे तुरंत स्फूर्तिदायक पेय बना देती है. दिन भर की दौड़ भाग से थके आदमी को एक कप कॉफी मिल जाए तो उसकी सारी थकान दूर हो जाती है.

ऐसा माना जाता रहा है कि अधिक कॉफी पीने से स्वास्थ्य को नुकसान हो सकता है. परंतु अब संशोधनों से साबित हुआ है कि एक दिन में पाँच कप तक कॉफी पीने से स्वास्थ्य को कोई नुकसान नहीं होता. बल्कि कॉफी कई बिमारियों की रोकथाम में अत्यंत उपयोगी साबित हुई है.अल्ज़ाइमर, फेफडो की पथरी, डिप्रेशन, तनाव, आदि समस्याओं से निदान दिलाने में कॉफी बहुत कारगर है.

रिसर्चरों का दावा है कि रोज हरी कॉफी पीने से अतिरिक्त चर्बी से छुटकारा पाया जा सकता है। रिसर्च में वैज्ञानिकों ने पाया है कि हरी कॉफी का क्लोरोजेनिक एसिड आहार नली में शुगर के अवशोषण को घटाता है और फैट के खत्म होने की प्रक्रिया को तेज करता है। वैज्ञानिकों ने अपनी स्टडी में पाया कि जिन्होंने रोज़ एक कप हरी कॉफी पी, उनका दो सप्ताह में वजन करीब डेढ़ किलो और एक महीने में दो किलो कम हो गया।

ब्रिटिश अखबार डेली मेल ने वैज्ञिनक लॉरेंट फ्रेसनेल के हवाले से कहा, 'कॉफी हरी चाय के समान है। इसके कच्चे और बिना भुने स्वरूप में मौजूद तत्व पाचन बढ़ाते हैं और वजन कम करने में मदद करते हैं। दुर्भाग्य से यह तत्व भूनने के दौरान नष्ट हो जाते हैं इसलिए नियमित तौर पर पी जाने वाली कॉफी में नहीं मिलते।' शोध के परिणाम जरनल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन में छपे हैं।

कॉफी पीने से शरीर में ग्लूकोज और मेटाबोलिजम की क्रियाओं में सरलता आती है. स्फूर्ति का अनुभव होता है. रक्त प्रवाह सुचारु बनता है. कॉफी पीने से शरीर में कैफिन, क्लोरोजेनिक एसिड, मेग्नेशियम, पोटेशियम, विटामीन बी3, ट्रीग्नोलेन जैसे तत्व भी मिलते हैं.

वैसे तो किसी भी चीज की अति बुरी ही होती है. लेकिन अगर सही मात्रा में सेवन किया जाए तो कॉफी जैसा पेय आपके स्वास्थ्य के लिए उपयोगी ही साबित होता है. तो चलिए एक कप कॉफी हो जाए!